सीमेंट फैक्टी विवाद सुलझने के आसार आज CM सुक्खू की अडानी ग्रुप के CEO के साथ हाई लेवल मीटिंग

Feb 14, 2023 - 12:04
 0  3829
सीमेंट फैक्टी विवाद सुलझने के आसार आज CM सुक्खू की अडानी ग्रुप के CEO के साथ हाई लेवल मीटिंग

हिमाचल प्रदेश में 2 महीने से चल रहा सीमेंट फैक्ट्री विवाद आज सुलझाने के आसार हैं। सीमेंट कंपनी और ट्रक ऑपरेटरों के बीच चल रहे गतिरोध को तोड़ने के लिए मुख्यमंत्री सुक्खू की आज अडानी ग्रुप के CEO के साथ हाई लेवल मीटिंग होगी। इस विवाद को सुलझाने के लिए मुख्यमंत्री ने कंपनी के उच्च अधिकारियों (CEO) और ट्रक यूनियनों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक बुलाई है।

कंपनी के उच्च प्रबंधकों के साथ सरकार की यह पहली महत्वपूर्ण बैठक होगी। अभी तक अडानी ग्रुप की सरकार के साथ सीधी बात नहीं हुई है। कंपनी अधीनस्थ अधिकारियों को ही वार्ता के लिए आगे करती रही है, जिनके पास कोई भी निर्णय लेने का अधिकार नहीं होता। यही वजह रही है कि हिमाचल प्रदेश में माल भाड़े को लेकर सीमेंट कंपनी का यह विवाद 2 महीने लंबा खींच गया।

बता दें कि हिमाचल में अड़ानी ग्रुप की दो सीमेंट कंपनियों अंबुजा और ACC के प्लांट ट्रक ऑपरेटरों के साथ माल भाड़े के रेट को लेकर चल रहे मतभेदों की वजह से 2 महीने से बंद है। ट्रक ऑपरेटर सीमेंट कंपनियों से माल भाड़ा 13.43 रुपए करने की मांग कर रहे हैं जबकि सीमेंट कंपनियां डबल डिजिट में माल भाड़ा देने को तैयार नहीं है। प्लांट बंद होने से 35 हजार लोग रोजी-रोटी के लिए परेशान हैं।

अगर विवाद नहीं सुलझा तो ट्रक ऑपरेटर्स आर-पार की लड़ाई लड़ने पर आ जाएंगे।
अगर विवाद नहीं सुलझा तो ट्रक ऑपरेटर्स आर-पार की लड़ाई लड़ने पर आ जाएंगे।

विवाद को सुलझाने के लिए हो चुकीं 15 दौर की वार्ताएं
गतिरोध को खत्म करने के लिए सरकार मध्यस्थता की भूमिका निभा रही है। सरकार की तरफ से अब तक 15 दौर की बैठकें हो चुकी हैं। पहले अधिकारी स्तर पर गतिरोध को तोड़ने का प्रयास किया गया। फिर उद्योग मंत्री हर्षवर्धन चौहान की अध्यक्षता में कमेटी बनाकर कई दौर की बैठकें हुईं। माल भाड़े के नए रेट तय करने के लिए कंसलटेंट की सेवाएं ली गईं। यहां तक कि मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू की अध्यक्षता में भी बैठक हो चुकी है, लेकिन सभी बेनतीजा रही हैं।

हालांकि एक दौर में ट्रक ऑपरेटर्स सरकार के आग्रह पर 10.20 रुपये माल भाड़े के लिए तैयार भी हो गए थे, लेकिन कंपनी की जिद के आगे बात बनने से रह गई और गतिरोध बढ़ता चला गया। आज मुख्यमंत्री दोबारा ट्रक ऑपरेटरों के साथ बैठक करके इस विवाद को सुलझाने का प्रयास करेंगे। बैठक में भाग लेने से पहले ट्रक ऑपरेटरो ने सरकार से मांग की है कि सीमेंट कंपनियो के प्रबंधकों को भी बुलाया जाए, ताकि आमने सामने बात करके इस विवाद को सुलझाया जा सके।