रोडवेज की बसों को दिल्ली में प्रवेश पर संशय रोडवेज के पास नहीं बीएस 6 मॉडल बस, जिले में प्रतिदिन 8300 यात्रियों का अटकेगा बस का सफर

Mar 16, 2023 - 07:39
रोडवेज की बसों को दिल्ली में प्रवेश पर संशय रोडवेज के पास नहीं बीएस 6 मॉडल बस, जिले में प्रतिदिन 8300 यात्रियों का अटकेगा बस का सफर

प्रदूषण के चलते दिल्ली सरकार ने 1 अप्रैल से अपने यहां केवल बीएस-6 मॉडल वाली बसों को ही प्रवेश की अनुमति देने का निर्णय किया है। अगर यह लागू होता है तो दिल्ली में राजस्थान रोडवेज की बसों काे प्रवेश नहीं मिलेगा।

दरअसल राजस्थान रोडवेज के पास एक भी बीएस-6 मॉडल की बस नहीं है। जिले में रोडवेज के तीनों डिपो में 235 बसें हैं। जिनमें 43 बसें अलवर आगार में 26, तिजारा आगार में 10 और मत्स्य नगर आगार में 7 बसें बीएस-4 माॅडल की हैं, जो दिल्ली जाती हैं।

उल्लेखनीय है कि बढ़ते प्रदूषण काे देखते हुए 2020 से दिल्ली में केवल बीएस 4 माॅडल बसाें काे प्रवेश दिया शुरू हुअा था। तब ये बसें खरीदी गई थीं। इनमें प्रतिदिन करीब 8300 यात्री दिल्ली का सफर करते हैं।

दिल्ली के 77 फेरे लगाती हैं राेडवेज बसें:
अलवर से राेडवेज के 8 डिपाे की बसें प्रतिदिन दिल्ली के 77 फेरे लगाती हैं। इनमें मत्स्य नगर आगार की बसें 31, तिजारा आगार की बसें 17, अलवर आगार की बसें 15, दाैसा डिपाे की बसें 8, हिंडाैन और कराैली डिपाे की बसें 2-2, बारां और जयपुर डिपाे की बस 1-1 फेरा लगाती है।

24 ट्रेनें जाती हैं दिल्ली:
रोडवेज के अतिरिक्त अलवर से दिल्ली के लिए 24 ट्रेनें जाती हैं। इनमें से 9 ट्रेनें प्रतिदिन जाती हैं। अधिकांश व्यापारी और नौकरी पेशा लोग भी प्रतिदिन दिल्ली जाते हैं। इसके अतिरिक्त दिल्ली के लिए लोग स्वयं का वाहन या टैक्सी का उपयोग भी करते हैं।

यदि 1 अप्रैल से बीएस 6 माॅडल की ही बसाें काे दिल्ली में प्रवेश दिया जाता है ताे मुख्यालय के निर्देशानुसार ही बसाें का संचालन किया जाएगा।- नीशु कटारा, मुख्य प्रबंधक अलवर आगार